School Antha Katha

School Antha Katha

घर से निकलकर भुवनेन्द्र मुख्य सड़क पर करीब बीस किलोमीटर रास्ता तय कर चुका था। अब उसकी मोटर साईकिल लिंक रोड पर चल रही थी। उसके अनुमान के
मुताबिक सड़क पर चल रहे एक राहगीर ने उसे ग्राम डेरा पहाड़ी ... Read More

Book Features

  • Ajay Kumar Agrawal
  • Fiction
  • 978-93-85818-77-6
  • 5 x 8
  • 191
  • Hindi
  • January 1 ,1970

Description

घर से निकलकर भुवनेन्द्र मुख्य सड़क पर करीब बीस किलोमीटर रास्ता तय कर चुका था। अब उसकी मोटर साईकिल लिंक रोड पर चल रही थी। उसके अनुमान के
मुताबिक सड़क पर चल रहे एक राहगीर ने उसे ग्राम डेरा पहाड़ी का यही रास्ता बताया था। उसे सन्तोष हो रहा था कि यद्यपि सड़क ऊँची-नीची झटकों भरी तो थी परन्तु तारकोल की
बनी पक्की थी। बीच-बीच में उसकी गिट्टी उखड़ी थी, जिससे बचता हुआ वह आगे बढ़ रहा था।